जानें, आपके कुंडली में शनि के बलवान होने से क्या होता है?

नमस्कार दोस्तों। आज के आर्टिकल में हम बात करेंगे शनि के बलवान होने से क्या होता है? और इससे जुड़ी सारी जानकारी आप लोगों को देने का प्रयास करेंगे। जैसे की कुंडली में शनि को बलवान होने के लिए क्या करें ? सनी को बलवान करने का 10 उपाय, अस्त शनि के 10 उपाय, शनि के चमत्कारी, उपाय शनि किस राशि पर शासन करता है और शनि ग्रह के उपाय लाल किताब ये सारी जानकारी आज के इस आर्टिकल में हम अपलोगो को देने का प्रयास करेंगे। तो कृपया इस आर्टिकल को लास्ट तक पढ़े।

कुंडली में शनि के बलवान होने से क्या होता है?

जब किसी जातक के जन्म कुंडली में शनि अशुभ और नकारात्मक होता है। तो जातक की जिंदगी संघर्षों से हमेशा घीरा रहता है। उनको कभी भी भाग्य का साथ नहीं मिलता है। ये कोई भी काम करता है। या किसी भी क्षेत्र में जाता है, तो उनके हाथ असफलता के अलावा कुछ नहीं लगता है। वैदिक ज्योतिष में शनि का एक विशेष स्थान है। कहा जाता है कि, शनिदेव किसी भी जातक का कर्म देखकर ही न्याय करता है, कि उनको कैसा फल देना है। इसलिए इन्हें न्यायों का देवता भी कहा जाता है।

जब कोई जातक अच्छा कर्म करता है, जैसे की गरीबों का सेवा करना, बेसाहरें लोगों का सहायता करना और सभी प्राणियों से प्यार करना तब शनि देव उनसे बहुत प्रसन्न होता है, और उन्हे शुभ फल देता है। परंतु इसके विपरीत अगर कोई जातक गरीबों और बेसहारों पर अत्याचार करते हैं। उनको सताते हैं, तब शनिदेव उनसे काफी कुपित होता है, और उन्हें अशुभ फल देता है। वैदिक ज्योतिष में कहा गया है कि, यदि किसी जातक की कुंडली में शनि ग्रह मजबूत होता है। तो उन्हें सकारात्मक परिणाम मिलता है।

Also Read:

शनि खराब होने पर क्या करें? जानें ठीक करने के (8 आसान उपाय)

कुंभ राशि वाले शनि देव को कैसे प्रसन्न करें? (6 आसान उपाय)

और उनको सभी कार्यों में सफलता मिलता है। अगर किसी जातक के राशि में शनि बलवान होता है। तो ये उन्हें मेहनती, ईमानदार और न्याय प्रिय बनाता है। इसके अलावा शनि के प्रभाव से जातक के किसी भी कार्य और व्यवसाय में सफलता मिलता है। शनि का बलवान होने से व्यक्ति एक अच्छा और धैर्यवान इंसान बनता है। इसके अलावा यदि कुंडली में शनि बलवान होता है। तो जातक हमेशा स्वस्थ और रोगों से वंचित रहता है। इनका आयु भी पूर्ण होता है। क्योंकि ज्योतिष में शनिदेव को आयु प्रदान करने वाला भी कहा जाता है।

कुंडली में शनि को बलवान होने के लिए क्या करें?

अगर आपको भी अपने जिंदगी में शनि को बलवान करना है। तो हनुमान जी, शंकर भगवान, ब्रह्मा जी और पीपल की पेड़ की पूजा करें। और इसके अलावा प्रत्येक दिन हनुमान चालीसा, शनि चालीसा और दशरथ शनि स्त्रोत का पाठ करें।

  • हनुमान जी का पूजा करें : यदि किसी जातक की कुंडली में शनि दोष है, और उन्हें अपने शनि दोष का निवारण करना है। तो उन्हें शनिवार के दिन हनुमान जी का पूजा करना चाहिए। क्योंकि वैदिक ज्योतिष के अनुसार शनि देव और हनुमान जी के बीच एक विशेष नाता है। अगर जातक शनिवार के दिन प्रातः उठकर स्नान करके किसी भी हनुमान मंदिर में जाकर हनुमान जी का पूजा करता है, और उन्हें लड्डू का भोग लगता है, और उनके समक्ष दिया जलाता है, तो उसे शनि दोष से मुक्ति मिल जाता है।
  • शंकर भगवान की पूजा करें : यदि किसी जातक को शनि दोष से छुटकारा पाना है। तो उन्हें शनिवार के दिन शनि देव के साथ भगवान शंकर का भी पूजा करना चाहिए। क्योंकि ज्योतिष के अनुसार भगवान शंकर जी को शनिदेव अपना गुरु मानता है। यदि जातक शनिवार के दिन प्रातः उठकर स्नान करके शिव जी के मंदिर में जाकर शिवलिंग पर काले तिल वाली पानी का जलभिषेक करते हैं, और भगवान शंकर जी का पंचाक्षरी मंत्र ओम नमः शिवाय का जाप करता है। तो इससे जातक का शनि दोष कम हो जाता है और शनि बलवान हो जाता है।
  • ब्रह्मा जी का पूजा करें : अगर आपको भी अपनी शनि बलवान करना है। तो आपको शनिवार के दिन ब्रह्मा जी का पूजा करना होगा। क्योंकि भविष्य पुराण में ब्रह्मा जी ने बताया था कि, किसी भी जातक को शनि ग्रह से छुटकारा पाना है। तो उन्हें व्रत, भोग, हवन और नमस्कार करना चाहिए। इसलिए शनिदेव को ब्रह्मा जी के साथ एक विशेष नाता है। शनिवार के दिन अगर कोई जातक ब्रह्मा जी का पूजा करता है। तो शनि देव उनसे बहुत प्रसन्न होता है। और उनका शनि बलवान होता है।
  • पीपल की पेड़ की पूजा करें : अगर जातक शनिवार के दिन प्रातः उठकर स्नान करके सूर्योदय के बाद पीपल के पेड़ की पूजा करता है। जल अर्पित करता है और सरसों का तेल का दिया जलाता है। तो उन पर शनिदेव की कृपा बनती है, और उसका शनि बलवान होता है।

शनि को बलवान करने का 10 उपाय

शनि के बलवान होने से क्या होता है
  1. शनिवार के दिन हनुमान जी का पूजा करें, और उन्हें लड्डू का भोग लगाए।
  2. शनिवार के दिन भगवान शिव का पूजा करें, और उनके शिवलिंग पर काले तिल के पानी से जलभिषेक करें।
  3. शनिवार के दिन ब्रह्मा जी का पूजा करें, और दान करें।
  4. शनिवार के दिन सूर्योदय के बाद पीपल के पेड़ का पूजा करें, और सरसों के तेल के दीपक जलाएं।
  5. प्रत्येक दिन हनुमान चालीसा, शनि चालीसा, और दशरथ शनि स्त्रोत का पाठ करें।
  6. काली गाय की पूजा करें, और उनके सिंघ पर कलावा बांधकर धूप आरती करें।
  7. बरगद के पेड़ पर दूध चढ़ाएं, और गिले मिट्टी का तिलक करें।
  8. कांसे के बर्तन में तिल का तेल रखकर, उसमें अपना प्रतिबिंब देखकर उसे दान कर दे।
  9. काली गाय की घी का दीपक रोज सूर्यास्त होने के बाद मंदिर में जलाएं।
  10. मांस मछली और शराब का सेवन करने से बचें।

अस्त शनि के 10 उपाय

  1. काले कपड़े का दान करने से अस्त शनि का उदय होता है।
  2. काली तिल का दान करने से भी शनि उदय होता है।
  3. काली उड़द की दाल दान करें।
  4. शनिवार के दिन गुड़ का दान करें।
  5. शनिवार के दिन तेल का भी दान करने से अस्त शनि उदय होता है।
  6. काले जूते और चप्पल को गरीबों में दान करने से शनि अस्त नहीं होता है।
  7. जरूरतमंद लोगों और असहाय लोगों को दान करने से शनि उदय होता है।
  8. महिलाओं का हमेशा सम्मान करें।
  9. अपने काम के प्रति हमेशा ईमानदार बनकर रहे, और ईमानदारी से करें।
  10. काले कुत्ते और बंदर को भोजन कराएं इससे आपका शनि उदय होता है।

शनि के चमत्कारी उपाय

शनि के बलवान होने से क्या होता है

यदि कोई जातक शनिदेव को खुश करना चाहता है। तो उन्हें शनिवार के दिन अपने घर के आंगन में शनि यंत्र की स्थापना करके इनका विधि पूर्वक पूजा पाठ करें। ऐसा माना जाता है कि अगर कोई भी जातक मांसाहार का त्याग, गरीबों के मदद और बेसहारों का सहायक बनता है। तो शनि देव की उन पर खास दृष्टि बना रहता है। इसके अलावा शनिवार के दिन ब्रह्म मुहूर्त के समय पीपल के पेड़ पर जल चढ़ाता है, और पीपल मंत्र ‘ॐ’ प्रां प्रीं प्रौं सः शनैश्चराय नमः मंत्र का लगभग 108 बार जाप करता है।

तो शनि देव उनसे प्रसन्न होता है। यदि कोई जातक शनिवार के दिन किसी भी काली गाय को गुड़ का सेवन करता है, और उनके माथे पर लाल रोली का तिलक करता है, और वह ऐसा लगभग सात शनिवार तक लगातार करता है। तो उन पर शनिदेव का विशेष ध्यान होता है। इसके अलावा शनिवार के दिन यदि कोई जातक काली तिल, काली उड़द की दाल, तेल, गुड़ ,काले वस्त्र और लोहे का दान करता है। तो उन पर शनिदेव का कृपा हमेशा बना रहता है।

शनि किस राशि पर शासन करता है?

ज्योतिष शास्त्र के अनुसार शनि अपने ही राशि कुंभ पर शासन करता है। ऐसा माना जाता है की कुंभ राशि शनि देव का मूल त्रिकोण राशि है। जिसका कारण है कि शनि देव कुंभ राशि में बहुत ही ज्यादा मजबूत होता है। कुंभ राशि वाले जातक को किसी भी सामाजिक संगठन और आंदोलन में हिस्सा लेने का संभावनाएं होती है। इसके अलावा यह किसी भी व्यक्ति से अच्छा संबंध हमेशा बनाए रखता है।

यह किसी भी काम में दृढ़ता पूर्वक, निरंतर और कठोर परिश्रम से सफलता प्राप्त कर लेता है। इन लोगों का जीवन कहीं भी उनके जन्म स्थान से दूर स्थिर और सुखी रहता है। कुंभ राशि वाले जातक के जीवन में किसी भी कार्य या व्यवसाय में धान का लाभ आसानी से प्राप्त होता है। इनके आर्थिक जीवन और गतिविधियों में भी सफलता मिलता है। इनका स्वस्थ जीवन भी काफी अच्छा होता है।

शनि ग्रह के उपाय लाल किताब

शनि के बलवान होने से क्या होता है

ज्योतिषों के अनुसार लाल किताब में शनि ग्रह को पापी ग्रह का राजा माना जाता है। अगर किसी जातक की कुंडली में शनि शुभ होता है। तो इन्हें मालामाल कर देता है। अगर वही कुंडली में शनि अशुभ होता है, तो शनि उसे बर्बाद कर देता है। ज्योतिष में कहा गया है कि शनि के दोष से बचने के लिए लाल किताब का उपाय अपनाना चाहिए। लाल किताब के अनुसार शनि ग्रह से बचने के लिए जातक को रोज हनुमान चालीसा को पढ़ना चाहिए और महामृत्युंजय मंत्र का जाप करना चाहिए।

इसके अलावा शनि से जुड़ी चीज काली उड़द की दाल, लोहा, भैंस, तेल, काले कपड़े, काली गाय और काले जूते का दान में देना चाहिए। ऐसा करना जातक के लिए फायदेमंद साबित होता है। और शनि दोष कम होता है। अगर किसी जातक के जन्म कुंडली में शनि ग्रह कमजोर है। तो उन्हें अपने मस्तक पर दही का चंदन टीका करना चाहिए। और काले कुत्ते को पालना चाहिए, और उन्हें दूध रोटी खिलाना चाहिए। लाल किताब के अनुसार यदि जातक मछलियों को चावल और दाना खिलाता है। तो इन्हें काफी लाभ मिलता है। इसके अलावा बहती हुई नदी के पानी में चावल या बादाम डालता है। तो शनि देव इससे काफी प्रसन्न होता है।

निष्कर्ष

आज के इस आर्टिकल में हमने शनि के बलवान होने से क्या होता है? के बारे में आपलोगो को जानकारी देने का प्रयास किया है। अगर आपके शनि में दोष है। तो आपको नकारात्मक भावना आएगा और आपका बनता हुआ काम भी बिगड़ जायेगा । अगर आपको अपना शनि दोष कम करना है तो आप मेहनती, कर्मठ और दृढ़ व्यक्ति बने इससे शनि दोष कम होता है। अगर आप लोगों की मदद करते है, उनकी सेवा करते है, और सभी प्राणियों से प्यार करते है।

तो इससे भी आपका शनि बलवान होगा। हमने आज के इस आर्टिकल में लाल किताब का भी जिक्र किया है। जिसमे बताया गया है कि, शनि को सभी ग्रहों में पापी ग्रहों का राजा माना गया है। अगर आपको धन, दौलत, रूतवा, और इज्जत चाहिए। तो आपको अपने कुंडली में शनि शुभ रखना पड़ेगा। अगर शनि आपके कुंडली में अशुभ होगा तो आपको ये बर्बाद भी कर सकता है।

डिस्क्लेमर – इस लेख में वर्णित जानकारी और सामग्री के सटीकता के विश्वास की गारंटी हमारी या हमारी टीम की नही हैं। हमने आपको ये सारी जानकारियां विभिन्न मध्यम जैसे ज्योतिष, पंडित, पंचांग, विभिन्न धर्म ग्रंथ से इकट्ठी कर के आप तक पहुंचाई है। हमारे उद्देश्य बस सूचनाओं/जानकारियों को आपतक पहुंचाना है। इसके अलावें इसके उपयोग की जिम्मेदारी हमारी नही होगी। इसके उपयोग की जिम्मेदारी केवल उपयोग करने वाले की होगी।

FAQs:

Q. शनि ग्रह खराब होता है तो क्या होता है?

अगर आपका शनि खराब होता है, तो आपके जीवन में नकारात्मक ऊर्जा आएगा और आप हमेशा तनाव महसूस करेंगे।

Q. शनि के लिए कौन सा घर खराब है?

शनि के लिए चौथा घर खराब होता है।

Q. शनि दोष कैसे हटाएं?

रोज सुबह प्रातः उठकर स्नान करके सूर्योदय के बाद पीपल की पेड़ का पूजा करें।

Q. कुंडली में शनि को बलवान कैसे बनाएं?

शनिवार के दिन तेल, काली गाय और भैंस का दान करें इससे शनि बलवान होगा।

Q. शनि को शुभ कैसे करे?

किसी भी शनि मंदिर में सरसों के तेल के दीपक में काली तिल मिलाकर जलाएं, और ऐसा हर शनिवार के दिन को करे आपका शनि शुभ होगा।

इस आर्टिकल के माध्यम से हमने आपको बताया शनि के बलवान होने से क्या होता है? और शनि देव से संबंधित सभी जानकारी देने का प्रयास किया है। आशा करती हूं, कि मेरा यह आर्टिकल आप सभी के लिए उपयोगी साबित हुआ होगा। ऐसे ही और अन्य सभी जानकारी के लिए हमारे वेबसाइट Suchna Kendra से जुड़े रहे। और हमारे Telegram Channel अवश्य Join करें।

Share This Post:

Leave a Comment