जानिए संतान प्राप्ति के लिए कौन सा पूजा करना चाहिए? (3 उपाय)

अगर आपके कुंडली में आ रही परेशानियों के कारण आपको संतान प्राप्ति में दिक्कतें आ रही है। जिस कारण अब तक आप संतान प्राप्ति के सुख से वंचित है। इसलिए आप ये जानना चाहते है कि, संतान प्राप्ति के लिए कौन सा पूजा करना चाहिए? तो ये आर्टिकल आपके लिए ही है। क्योंकि हम अपने आज के इस आर्टिकल मे आपको ये बताएंगे कि, संतान प्राप्ति के लिए कौन सा पूजा करना चाहिए। और साथ ही मै आपको इस आर्टिकल में पुत्रदा एकादशी के बारे में भी बताऊंगी। जिसके व्रत करने से जल्द ही संतान प्राप्ति का सुख आपको मिलेगा। तो उम्मीद करते हैं हमारा ये ऑर्टिकल आपको पसंद आयेगा।

Table of Contents

जानिए संतान प्राप्ति के लिए कौन सा पूजा करना चाहिए?

ऐसे बहुत से मां बाप है। जो संतान न होने की समस्या से झुंझ रहे है। अगर विज्ञान की मानें तो, स्त्री,पुरुष के अंदर हार्मोन को गड़बड़ी के कारण ये समस्याएं आती है। हां ये सत्य है। की इस समस्या का मुख्य कारण हार्मोन की गड़बड़ी का होना ही है। परंतु कभी कभी ऐसा भी होता है कि, मेडिकल रिपोर्ट सही आने के बावजूद भी संतान होने में समस्या आती है। इस समस्या का एक कारण हमारे शास्त्रों में भी उल्लेख किया गया है। जो की है कुंडली में ग्रहों की दशा खराब होना। अर्थात् जन्म कुंडली के लगन पत्रिका का पांचवा भाव संतान का भाव होता हैं।

Also Read :

राहु यंत्र के लाभ और इसका सही तरीके से उपयोग कैसे करें?

यदि पांचवा भाव का स्वामी छटे, आठवें, या बारहवें भाव में होता है। तो संतान प्राप्ति में दिक्कतें आ सकती है। इसके अलावा जो त्रिक भाव होते है। पंचम, सप्तम, नवम। यदि इन ग्रहों के स्वामि छटे, आठवें,या बारहवें भाव में बैठे होते हैं। उनलोगो के पुत्र प्राप्ति में समस्या आती हैं। इसलिए जब आपको संतान प्राप्ति में समस्या हो। तो आप इलाज आवश्य कराए परंतु अपने कुंडली के ग्रह जिस कारण ये समस्या आ रही है। उसको ठीक करने के लिए कुछ उपाय भी करने जरूरी होते हैं। देवी, देवताओं के आशिर्वाद से ही हमे संतान प्राप्ति का सुख मिलता है। तो आईए जानते है। संतान प्राप्ति के लिए कोन सा पूजा करना चाहिए।

इसमें हम आपको तीन उपाय बताने वाले हैं। जो एक प्रकार का व्रत, पूजा पाठ और दान धर्म है। आपको इन सभी उपायों को पूरे श्रद्धा से करना चाहिए। जिससे ईश्वर प्रसन्न हो और उनके आशिर्वाद से आपको संतान प्राप्ति का सुख मिल सके।

  1. भगवान कृष्ण के बाल रूप लड्डू गोपाल की पूजा करें। लड्डू गोपाल की पूजा करने से संतान प्राप्ति की समस्या दूर होती है। जिससे आपको संतान प्राप्ति में मदद मिलती है।
  2. अगर लड्डू गोपाल की पूजा पति-पत्नी साथ मिलकर करें। तो ये अत्यंत लाभकारी होता है। इसके अलावे आप इस पूजा में अपने परिवार वालों को भी शामिल कर सकते हैं। इससे और भी जल्दी लाभ मिलता है।
  3. स्कंदमाता अपने गोद में भगवान कार्तिक को लिए और शेर पर सवार रूप से जानी जाती है। और अपने भक्तों को संतान प्राप्ति का आशीर्वाद देती हैं। इनके आराधना करने से संतान प्राप्ति में आ रही सारी समस्याएं दूर होती है। अगर आप स्कंद माता का आशीर्वाद प्राप्त करना चाहते हैं। तो सिन्गता नित्यं पद्मश्रित करद्वय। शुभदास्तु सदा देवी स्कन्दमाता यशस्वी मंत्र का जाप करें।

संतान प्राप्ति के लिए लड्डू गोपाल की पूजा कैसे करें?

संतान प्राप्ति के लिए कौन सा पूजा करना चाहिए
  1. अगर आप संतान का सुख पाना चाहते हैं। तो लड्डू गोपाल की पूजा करें। लड्डू गोपाल की पूजा पूरी विधि पूर्वक करें उन्हें दूध गंगाजल शहद के आदि से स्नान कारण उन्हें साफ सुथरा वस्त्र पहने हैं। उनका श्रृंगार करें।
  2. लड्डू गोपाल को भोग में माखन, मिश्री आदि का भोग लगाए। तुलसी का पत्ता आवश्य रूप से रखें। तभी उनका भोग शुद्ध माना जाता है।
  3. लड्डू गोपाल की पूजा करते वक्त ॐ श्रीं ह्रीं क्लीं ग्लौं देवकीसुत गोविन्द वासुदेव जगत्पते देहि मे तनयं कृष्ण त्वामहं शरणं गतः। मंत्र का जाप अवश्य करें।
  4. इस मंत्र का जाप प्रत्येक दिन काम से कम एक माला करें। यह आपको तब तक करते रहना जबतक आपको संतान प्राप्ति का सुख ना मिल जाए।
  5. आम की लकड़ी, घी, शहद, तिल से आप हवन भी कर सकते हैं। हवन में काम से कम आपको 21 आहुतियां देनी है।
  6. अगर आप लड्डू गोपाल का पूजन जन्माष्टमी के दिन से करना आरंभ करते हैं। तो यह और भी लाभकारी हो जाता है।

संतान प्राप्ति के लिए ज्योतिष द्वारा सुझाए गए उपाय

अगर आप लंबे समय से संतान प्राप्ति की समस्याओं से जूझ रहे हैं।और अनेक उपचार, उपाय करने के बावजूद भी आपको संतान प्राप्ति का सुख नहीं मिल पा रहा है। तो हम आपको ज्योतिष द्वारा सुझाएगा कुछ उपाय बताएंगे। इस उपाय को करने से शीघ्र अतिशीघ्र आपको संतान प्राप्ति का सुख प्राप्त होगा।

पंचम भाव के स्वामी की प्रभाव को बढ़ाए

यदि आपके जन्म कुंडली से लग्न पत्रिका का पांचवा भाग कमजोर है। या आपका पंचमेष पीड़ित है। तो इश्क नकारात्मक प्रभाव को कम करने के लिए आप भगवान की पूजा कर सकते हैं। जिस भी व्यक्ति के जन्म कुंडली में बृहस्पति कमजोर रहता है। उसे व्यक्ति को न केवल संतान प्राप्ति में समस्याएं उत्पन्न होती है। बल्कि यह गर्भावस्था के समय थी समस्याएं उत्पन्न कर सकता है। इसलिए जरूरी है। कि आप अपने बृहस्पति को मजबूत करें। अपने बृहस्पति को मजबूत करने का सबसे उत्तम उपाय है।

प्रत्येक गुरुवार को गुड़ और पीले चने की दाल का दान करें। बृहस्पति भगवान की पूजा करें। साथ ही केले के पेड़ की भी पूजा करें। अगर आप अपनी कुंडली में बृहस्पति को अपने अनुकूल बनाना चाहते हैं तो आप देवानां च ऋषिणां च गुरुं काञ्चनसननिभम्। भूतं बुद्धिं त्रिलोकेशं तं नममि बृहस्पतिम्।। ॐ ग्रां घरं ग्रौं सः गुरवे नमः। ह्रीं गुरवे नमः। बृं बृहस्पतये नमः। मंत्र का जाप भी कर सकते हैं।

नवग्रहों की पूजा

संतान प्रताप की समस्या को दूर करने का दूसरा एवं उत्तम उपाय है नौ ग्रहों की पूजा करना। नौ ग्रह हमारे जीवन से जुड़ी हर पहलुओं का प्रतिनिधित्व करता है। चाहे वो संतान से जुड़ी हो या हमारे वैवाहिक जीवन से जुड़ी हो या हमारे करियर से जुड़ी हो। या फिर हमारे परिवार से जुड़ी हो। इसलिए अगर आप ज्योतिष शास्त्र के अनुसार नौ ग्रहों की पूजा करते हैं। तो न केवल आपको संतान प्राप्ति का सुख मिलेगा। बल्कि आपके जीवन से जुड़ी समस्याएं भी समाप्त होगी। ग्रहों के नकारात्मक प्रभाव को दूर करने का एक सबसे अच्छा उपाय है हवन करना।

हवन के प्रभाव से सभी नकारात्मक प्रभाव नकारात्मक दृष्टि का नष्ट हो जाता है और केवल और केवल सकारात्मक का जन्म होता है। इन सभी के अलावा अगर आपकी कुंडली में राहु केतु की स्थिति अच्छी ना हो। तो यह आपकी संतान प्राप्ति में एक बड़ी बाधा ला सकता है। हालांकि इसके प्रभाव को इतनी सरलता से कम या समाप्त नहीं किया जा सकता है। परंतु आप कुछ विशेष पूजा पाठ करके उसके प्रभाव को कम अवश्य ही कर सकते हैं।

लड्डू गोपाल की पूजा

अगर अब तक आपको संतान प्राप्ति का सुख प्राप्त नहीं हुआ है। तो आप अपने घर में लड्डू गोपाल को स्थापित करें और नियमित रूप से नन्हे बालक की तरह उनकी देखभाल करें उनकी पूजा करें और उनसे संतान के सुख को प्राप्त करने का आशीर्वाद मांगे। अगर आप भगवान कृष्ण के बाल स्वरूप लड्डू गोपाल का पूजा पूरे विधि विधान से नियमित रूप से करते हैं। तो आपको अवश्य ही उनका आशीर्वाद प्राप्त होगा। और जल्द ही आपके भी आंगन में उनके ही स्वरूप जैसा बालक जन्म लेगा।

पितृ दोष समाप्त करें

पितृ दोष भी हमारे जीवन में संतान प्राप्ति में समस्या उत्पन्न कर सकता है। पितृ दोष तभी किसी व्यक्ति को लगता है। जब वह अपने पितरों का अंतिम संस्कार उनका श्राद्ध ठीक तरह से नहीं करता है। इसलिए इस दोस्त को कम करने के लिए आपको हमेशा ध्यान रखना है। कि अपने पितरों का श्राद्ध और उनका अंतिम संस्कार अच्छे से विधिपूर्वक करना है। और पितृपक्ष के समय कुछ नियमों का पालन करना है।

संतान प्राप्ति के लिए वास्तु उपाय कैसे करें?

संतान प्राप्ति के लिए कौन सा पूजा करना चाहिए
  1. संतान प्राप्ति की संभावना को बढ़ाने के लिए। अपने कमरे में जहां आप प्रतिदिन सोते हैं। या आराम करते हैं। उस कमरे में अपने बिस्तर के ठीक सामने किसी प्यार से हंसते मुस्कुराते बच्चों की तस्वीर लगाए।
  2. बच्चों की तस्वीर के साथ लाफिंग बुद्धा की मूर्ति भी रखें। इससे भी संतान प्राप्ति की संभावनाएं बढ़ती है।
  3. आपका बेडरूम हमेशा दक्षिण पश्चिम दिशा में होना चाहिए। यह दिशा दांपत्य के बीच रोमांस को बढ़ावा देने में मदद करती है।
  4. यदि आपका बगीचा है और आप उसमें फूलों के पौधे या कोई पेड़ लगाते हैं। तो इस बात का ध्यान रखें कि हमेशा आपको यह पौधे और पेड़ों को दक्षिण दिशा में लगाना है।
  5. अगर आप संतान प्राप्ति के लिए प्रयास कर रहे हैं। तो आपको इस बात का ध्यान रखना है। कि आपको अभी कोई भी नया कार्य का निर्माण नहीं करना है।
  6. माहौल को सकारात्मक बनाने के लिए आपको हमेशा अपने द्वारा को अपने दरवाजे को साफ सुथरा रखना है।
  7. जिस बिस्तर पर आप सोते हैं। उसे बिस्तर के नीचे किसी भी प्रकार की गंदगी ना रखें। हमेशा अपने कमरे को ठीक तरह से साफ करके रखें।
  8. हमेशा अपने बेडरूम के पश्चिम कोने को सजाते रहे।
  9. जब आप गर्भधारण करने की कोशिश कर रहे होते हैं। तो इस बात का ख्याल रखें कि। आपको अपने कमरे में ताजे फूल रखने हैं।
  10. अगर आप अपने बेडरुम में अनार तस्वीर लगाते हैं। इससे आपकी प्रजनन क्षमता में वृद्धि होती हैं।
  11. अगर आप गर्भ धारण करने का प्रयास कर रहे हैं। तो आपको इस बात का ख्याल रखना है कि, आपको अपने कमरे में कोई सा भी इंडोर प्लांट नहीं लगाने हैं।
  12. अगर आप अपने घर के पश्चिम दिशा में क्रिस्टल लगते हैं। तो इससे संतान प्राप्ति में मदद मिल सकता है।
  13. अपने बेडरूम को हल्के रंग से पेंट करवाए।
  14. गर्भावस्था के लिए एक वास्तु टिप्स भी है कि, पत्नी को हमेशा अपने पति के बाएं और सोना चाहिए।
  15. अगर आपका कमरा और आपका बाथरूम एक दूसरे से अटैच है । तो जब वह उपयोग में ना रहे तो इस बात का ख्याल रखें कि, उसे हमेशा बंद करके रखना है।

संतान प्राप्ति की समस्या को दूर करने के लिए कौन सा क्रिस्टल या रुद्राक्ष धारण करना चाहिए?

हालांकि क्रिस्टल गर्भधारण करने में आपकी मदद कर सकता है। परंतु अगर आपकी कुंडली में किसी प्रकार का दोष हो या कोई भी समस्या हो। तो यह आपके जीवन में परेशानी भी ला सकता है। इसलिए उचित रहेगा कि, इसे धारण करने से पहले आप किसी महान ज्ञानी ज्योतिष की सलाह ले ले।

गर्भवती महिला या गर्भधारण कर रही महिलाओं के लिए यह रत्न बताए गए हैं।

  1. रोज क्वार्ट्ज : रोज क्वार्टर्स दांपत्य में खासकर महिलाओं का गुस्सा, क्रोध और आक्रोश को दूर करने में मदद करता है।
  2. रूद्राक्ष : पत्थर का उपयोग गर्भधारण करने के लिए और गर्भधारण की समस्या को दूर करने के लिए किया जाता है। यह एक प्रकार से प्रेम का पत्थर होता है। जो भावनाओं, आशावाद और आत्मविश्वास को बढ़ावा देता है।

गर्भ गौरी रुद्राक्ष कैसे काम करता है?

संतान प्राप्ति के लिए कौन सा पूजा करना चाहिए

गर्भ गौरी रुद्राक्ष गौरी और उनके पुत्र गणेश का प्रतिनिधित्व करने का काम करता है। गर्व गौरी रुद्राक्ष का दो भाग होता है। पहला भाग दूसरे भाग से छोटा होता है। बड़े आकार का रुद्राक्ष माता पार्वती को दर्शाता है। और छोटे आकार का रुद्राक्ष श्री गणेश को दर्शाता है। यह उन महिलाओं के लिए बहुत लाभदायक होता है। जो गर्भ धारण करने से डरती है या जिसे गर्भधारण करने में समस्याएं आ रही है। अगर आप संतान प्राप्ति का सुख प्राप्त करना चाहते हैं।

तो आपको इस गर्भ गौरी रुद्राक्ष को अपने गले में धारण करना है। ऐसी मान्यता है कि गर्भ गौरी रुद्राक्ष बहुत ही शुभ और सकारात्मक भावनाओं को जन्म देने में सहायता करता है। जब आप गर्भ गौरी रुद्राक्ष धारण कर लेते हैं तो इसका उत्तम और शीघ्र लाभ पाने के लिए आप, ॐ नमः शिवाय का जाप भी कर सकते हैं। इस मंत्र का जब आपको कम से कम 108 बार करना है।

पुत्रदा एकादशी व्रत करने से क्या होता है?

सभी एकादशी व्रत पर भगवान विष्णु की पूजा की जाती है। बिल्कुल उसी प्रकार पुत्रदा एकादशी पर भी भगवान विष्णु की ही पूजा की जाती है। इस दिन भगवान विष्णु की पूजा करने से या इसदिन व्रत रखने से और कुछ उपाय करने से संतान प्राप्ति का सुख हमें मिलता है। हर वर्ष सावन मास के शुक्ल पक्ष की एकादशी तिथि को पुत्रदा एकादशी का व्रत रखते हैं। तो इससे संतान प्राप्ति का सुख हमें मिलता है। पुत्रदा एकादशी का यह व्रत संतान प्राप्ति के लिए और उनकी उन्नति और प्रगति के लिए रखा जाता है।

पुत्रदा एकादशी व्रत की पूजा कैसे करें?

जैसा कि आप सभी को पता है। एकादशी पर भगवान विष्णु की पूजा की जाती है। बिल्कुल उसी प्रकार पुत्रदा एकादशी पर भी भगवान विष्णु की ही पूजा की जाती है। इस व्रत का आरंभ करने के लिए आपको सर्वप्रथम सुबह उठकर अच्छे से स्नान कर लेना है। उसके बाद साफ वस्त्र धारण कर उसके पश्चात अपनी पूजा घर को या अपने मंदिर को अच्छे से साफ कर लेना है। उसके पश्चात अपने मंदिर में विष्णु भगवान के समक्ष से एक घी का दीपक जलाना है और घी का दीपक जलाकर अपने व्रत का संकल्प लेना है।

व्रत आरंभ करने के लिए आपको किसी लकड़ी के मेज पर या चौकी पर भगवान विष्णु की फोटो या उनके प्रतिमा को स्थापित करना है। भगवान विष्णु को मेज पर स्थापित करने से पहले पीले रंग के कपड़े से भगवान को आसन दे। उसके पश्चात भगवान विष्णु के फोटो या उनके प्रतिमा को स्थापित करें। स्थापित करने के बाद हल्दी और चंदन का तिलक लगाए। भगवान विष्णु को फल, फूल, चने का दाल गुड़, इत्यादि अर्पित करें। भगवान विष्णु को तिल और तुलसी का पत्ता अवश्य रूप से अर्पित करें। इन सब के पश्चात धूप–दीप जलाएं। और एकादशी व्रत की कथा को पढ़ना आरंभ करें।

पुत्रदा एकादशी के दिन विष्णु सहस्त्रनाम का पाठ करना भी शुभ माना जाता है। पाठ करने के बाद आप भगवान विष्णु की आरती करें। पुत्रदा एकादशी की पूजा विधि विधान से करने से और इस दिन व्रत रखने से आपको संतान प्राप्ति का सुख प्राप्त होगा। ऐसी मान्यता है। कि इस पुत्रदा एकादशी पर व्रत रखने से हजारों सालों तक की गई तपस्या के बराबर का फल मिलता है।

पुत्रदा एकादशी के उपाय

संतान प्राप्ति के लिए कौन सा पूजा करना चाहिए
  • संतान प्राप्ति का सुख पाने के लिए इस दिन भगवान कृष्ण के बाल स्वरूप अर्थात लड्डू गोपाल की पूजा करना शुभ माना जाता है।
  • संतान प्राप्ति में बाधा आ रही हो तो पुत्रदा एकादशी के दिन व्रत रखें।
  • अगर संभव हो तो पुत्रदा एकादशी के दिन ने निर्जला व्रत रखें। ऐसा करने से आपको संतान प्राप्ति का सुख मिलेगा और साथ ही आपका आने वाला संतान गुणी होगा।
  • पुत्रदा एकादशी के दिन भगवान विष्णु की पूजा करें और भोग में उन्हें हलवा चढ़ाए और ” ॐ श्रीं ह्रीं क्लीं ग्लौं देवकीसुत गोविन्द वासुदेव जगत्पते देहि मे तनयं कृष्ण त्वामहं शरणं गतः ।” मंत्र का 108 बार जाप करें।
  • यदि आपकी संतान के करियर में बाधा आ रही है या किसी करण वह सफल नहीं हो पा रहा हो। तो पुत्रदा एकादशी व्रत के दिन पीपल के पेड़ के नीचे घी का दीपक जलाकर विष्णु सहस्त्रनाम का पाठ करने से संतान के जीवन में आ रही बाधाएं दूर होती है।
  • संतान प्राप्ति के लिए पुत्रदा एकादशी व्रत के दिन गरीब को दान दें। दान में वस्त्र, घी, गुड़, और अन्न इत्यादि दान करें।

निष्कर्ष

हमने अपने आज के आर्टिकल जिसका मुख्य विषय था। संतान प्राप्ति के लिए कौन सा पूजा करना चाहिए? इसके तहत हमने आपको संतान प्राप्ति के सभी उपाय बता दिए हैं। साथ ही हमने अपने आज के इस आर्टिकल में आपको संतान प्राप्ति के लिए कौन सा रत्न धारण करना चाहिए? साथ ही कौन सा व्रत करना चाहिए? ये सभी बताया है। अगर संक्षिप्त रूप में बात करें। तो संतान की प्राप्ति के लिए सबसे उत्तम उपाय है। कि लड्डू गोपाल की पूजा करें। और पुत्रदा एकादशी का व्रत रखें। उम्मीद करते हैं। हमारा आज का यह आर्टिकल आप सभी लोगों के लिए उपयोगी साबित हुआ होगा। धन्यवाद।

डिस्क्लेमर – इस लेख में वर्णित जानकारी और सामग्री के सटीकता के विश्वास की गारंटी हमारी या हमारी टीम की नही हैं। हमने आपको ये सारी जानकारियां विभिन्न मध्यम जैसे ज्योतिष, पंडित, पंचांग, विभिन्न धर्म ग्रंथ से इकट्ठी कर के आप तक पहुंचाई है। हमारे उद्देश्य बस सूचनाओं/जानकारियों को आपतक पहुंचाना है। इसके अलावें इसके उपयोग की जिम्मेदारी हमारी नही होगी। इसके उपयोग की जिम्मेदारी केवल उपयोग करने वाले की होगी।

FAQs:

Q. संतान प्राप्ति के लिए कौन से भगवान की पूजा करें?

श्रीकृष्ण, और बृहस्पति भगवान की पूजा करने से संतान प्राप्ति का सुख मिलता है।

Q. संतान प्राप्ति के लिए कौन सा मंत्र पढ़ना चाहिए?

आप ” ॐ श्रीं ह्रीं क्लीं ग्लौं देवकीसुत गोविन्द वासुदेव जगत्पते देहि मे तनयं कृष्ण त्वामहं शरणं गतः।” मंत्र का जाप करने से संतान की प्राप्ति का सुख मिलता है।

Q. संतान प्राप्ति के लिए कौन सा रुद्राक्ष धारण करना चाहिए?

संतान प्राप्ति के लिए गर्भ गौरी रुद्राक्ष धारण करना चाहिए।

Q. पुत्र प्राप्ति के लिए कौन सा ग्रह मजबूत होना चाहिए?

पुत्र प्राप्ति के लिए सूर्य और बृहस्पति ग्रह का मजबूत होना आवश्यक है।

इस आर्टिकल के माध्यम से हमने आपको बताया संतान प्राप्ति के लिए कौन सा पूजा करना चाहिए? और संतान प्राप्ति से संबंधित सभी जानकारी देने का प्रयास किया है। आशा करती हूं, कि मेरा यह आर्टिकल आप सभी के लिए उपयोगी साबित हुआ होगा। ऐसे ही और अन्य सभी जानकारी के लिए हमारे वेबसाइट Suchna Kendra से जुड़े रहे। और हमारे Telegram Channel अवश्य Join करें।

Share This Post:

Leave a Comment