अपनी जन्म तारीख से राशि नाम कैसे निकाले ? (सबसे आसान तरीका)

अगर आप अपने भविष्य को लेकर बहुत ज्यादा चिंतित हैं। आपके जीवन में बहुत सारी कठिनाइयां आ रही है। इसलिए आप अपनी राशि जानना चाहते है। लेकिन आपको अपने जन्म के बारे में बहुत ज्यादा जानकारी नहीं है। इसलिए आप ये सोच रहे है कि, केवल जन्म तारीख से राशि नाम कैसे निकाले? तो ये आर्टिकल आपके लिए ही है। क्योंकि इस आर्टिकल में हम आपको केवल आपके जन्म तारीख से राशि निकालने का एक बहुत ही आसान तरीका बनाएंगे। जिससे आप आसानी से अपनी राशि जान पाएंगे। और अपनी परेशानियों का समाधान ढूंढ पाएंगे। उम्मीद करते हैं की हमारा ये आर्टिकल आप सभी लोगो के लिए मददगार साबित होगा।

अपनी जन्म तारीख से राशि नाम कैसे निकाले ?

बहुत से लोगों के मनों मे ये प्रश्न होता है कि, केवल अपनी जन्म तारीख से राशि नाम कैसे निकाले? कई बार हमारे सामने ये प्रस्थिति उत्पन्न हो जाती है। कि हमे हमारा जन्म समय ज्ञात नही होता है। ऐसी स्थिति में हमे हमारी राशि का भी ज्ञान नही होता है। लेकिन हर व्यक्ति चाहता है कि वो अपना राशिफल देखे और ये जान सके कि उसका आने वाला समय कैसा होने वाला है। परंतु इसके लिए आपको आपकी राशि का ज्ञान होना बहुत आवश्यक है।

राशियां दो तरह की होती है।

  • सूर्य राशि
  • चन्द्र राशि

लेकिन जन्म तारीख से केवल सूर्य राशी का ही पता चल सकता है। और सूर्य राशि ही आपको आपके भविष्य और आपके उद्देश्य को बताती है। वही चंद्र राशी आपके आराम छेत्र को दर्शाती है। सूर्य राशि का निर्धारण सूर्य की स्थिति के आधार पर होता है। सूर्य 12 राशियों को पूर्ण करने में 12 महीने का समय लेता है। यानी सूर्य एक राशि मे एक महीने तक स्थित रहता है। सूर्य राशि मे, सूर्य एक निर्धारित समय में जिस राशि मे स्थित रहता है। उसी के आधार पर यह तय होता है कि उस जातक की राशि कौन सी होगी।

Also Read:

जाने अपने विवाह का योग, जन्म कुंडली के अनुसार विवाह कब होगा?

दो विवाह का योग कब बनता है? जानें, किन कारणों से बनता है योग

जानें शनि देव को खुश करने के लिए क्या करना चाहिए? (11 उपाय)

तो आईए जानते है केवल जन्म तारीख से राशि नाम कैसे जाने?

राशियों के नाम

राशि चक्र में पहले नंबर की राशि मेष राशि होती है। इसलिए हम राशियों की शुरूआत मेष राशि से करेंगे।

  1. मेष राशि : जिस भी लोगो की जन्म तिथि 21 मार्च से 20 अप्रेल के बीच की होती है। उसकी राशि का नाम मेष होता हैं। यह राशि राशि चक्र के पहले नंबर की राशि है।
  2. वृष राशि : जिस भी जातक की जन्म तिथि 21 अप्रैल से 21 मई के बीच की होती है। वो सभी वृश्चिक राशि के अंतर्गत आते हैं। यह राशि राशि चक्र के दूसरे नंबर की राशि है।
  3. मिथुन राशि : जिस भी व्यक्ति की जन्म तिथि 22 मई से 21 जून के बीच की होती है। उसकी राशि मिथुन राशि होती है। यह राशि राशि चक्र के तीसरे नंबर की राशि है।
  4. कर्क राशि : 22 जून से 22 जुलाई के बीच जिस भी व्यक्ति की जन्मतिथि आती है। उसकी राशि का नाम कर्क राशि होता है। यह राशि राशि चक्र के चौथे नंबर की राशि है।
  5. सिंह राशि : इसी प्रकार 23 जुलाई से 21 अगस्त तक आने वाले सभी जातक सिंह राशि के अंतर्गत आते हैं। यह राशि राशि चक्र के पांचवे नंबर की राशि है।
  6. कन्या राशि : 22 अगस्त से 23 सितंबर के बीच कि तिथियों में जन्मे लोगो कि राशि कन्या राशि होती है। ये राशि चक्र की छठी नंबर की राशि होती है।
  7. तुला राशि : 24 सितंबर से 23 सितंबर के बीच के जन्मतिथि वाले लोगो की राशि का नाम तुला होता है। यह राशि चक्र के सातवें नंबर की राशि है।
  8. वृश्चिक राशि : जिस भी लोगों का जन्म 24 अक्टूबर से 22 नवंबर के बीच होता है। उसे व्यक्ति की राशि वृश्चिक राशि होती है। यह राशि राशि चक्र के आठवें नंबर की राशि है।
  9. धनु राशि : 23 नवंबर से 22 दिसंबर के बीच जिस पर व्यक्ति का जन्म होता है उसकी राशि का नाम धनु राशि होता है यह राशि चक्र के नौकरी नंबर की राशि होती है।
  10. मकर राशि : मकर राशि वाले व्यक्ति की जन्म तिथि 23 दिसंबर से 20 जनवरी के बीच की होती है। यह राशि राशि चक्र के दसवें नंबर की राशि है।
  11. कुंभ राशि : जिस भी व्यक्ति की जन्म तिथि 21 जनवरी से 19 फरवरी के बीच की होती है। उसकी राशि का नाम कुंभ राशि होता है। कुंभ राशि राशि चक्र के ग्याहरवे नंबर की राशि होती हैं।
  12. मीन राशि : साथ ही जिस व्यक्ति की जन्म तिथि 20 फरवरी से 20 मार्च के बीच की होती है। उसकी राशि का नाम मीन राशि होता है। ये राशि चक्र की बारहवें नंबर की और आखिरी राशि होती हैं।

ये सारी राशियां सन शाइन राशि है। अर्थात ये सभी राशियां सूर्य के स्थिति को देखकर निकली जाती है।

नाम से राशि कैसे पता करें ?

बहुत से लोगों को अपनी राशि के बारे में जानने की उत्सुकता होती है। लेकिन उन्हें अपने जन्म से संबंधित पूर्ण रूप से ज्ञान नहीं होता। इसलिए वह अपने जन्म तिथि के आधार पर या अपने नाम के आधार पर अपने राशि के बारे में जानना चाहते हैं। इसलिए उनके मन में यह प्रश्न होता है। की जन्म तारीख से राशि कैसे निकाले? या फिर नाम से राशि कैसे पता करें? तो मैं आपको इसमें बताऊंगी कि आप अपने नाम से कैसे अपनी राशि का पता लगा सकते हैं।

जन्म तारीख से राशि नाम कैसे निकाले
  • मेष राशि: जिस भी व्यक्ति के नाम की शुरूआत ( चू , चे, चो, ला, लि, लु, ले, लो, अ ) इन अक्षरों से होती है। उसकी मेष राशि होती है।
  • वृष राशि: (ई, उ, ए, ओ, बा, बि, बु, बे, बो) इन अच्छरों से जिस भी व्यक्ति के नाम की शुरुआत होता होता है। उसकी वृष राशि होती हैं।
  • मिथुन राशि: जिस भी जातक के नाम की शुरूआत (का, कि, क, घ, छ, के, को, हु) अक्षरों से होती है। उसकी राशि का नाम मिथुन राशि है।
  • कर्क राशि: जिस भी जातक के नाम की पहला अक्षर (हि, हु, हे, हो, डा, डि, डु, डे, डो) होता है। उसी राशि कर्क राशि होती है।
  • सिंह राशि: जिस भी व्यक्ति के नाम की शुरूआत ( मा, मि, मु, मे, मो, टा, टि, टु, टे) से होती हैं। उनकी राशि का नाम सिंह राशि होता है।
  • कन्या राशि: कन्या राशि वाले व्याक्ति के नाम की शुरूआत ( इ, उ, ए, ओ, बा, बि, बु, बे, बो ) अक्षरों से होती है।
  • तुला राशि: ( र, रि, रू, रे, रो, ता, ति, तु, त ) से जिस भी व्यक्ति के नाम की शुरूआत होती है। उसकी तुला राशि है।
  • वृश्चिक राशि: जिस भी व्यक्ति के नाम की शुरुआत (तो, ना, नि, नु, ने, नो, या, यि, य) से होता है। उसकी राशि वृश्चिक राशि है।
  • धनु राशि: जिस भी व्यक्ति के नाम की शुरुआत (‌ये, यो, भ, भि, भु, घ, फा, ढ, भे) इन अक्षरों से होती हैं। उसकी राशि धनु है।
  • मकर राशि: जिस भी व्यक्ति के नाम की शुरुआत (भो, ज, जि, खि, खु, खे, खो, गा, गि) उसकी राशि मकर राशि है।
  • कुंभ राशि: जिस भी व्यक्ति के नाम की शुरुआत (गु, गे, गो, सा, सि, सु, से, सो, द) उसकी राशि कुंभ है।
  • मीन राशि: जिस भी व्यक्ति के नाम की शुरुआत (दि, दु, थ, झ, दे, दो, च, चि) उसकी राशि का नाम मीन राशि है।

राशि के अनुसार व्यक्ति के स्वभाव कैसे होते है ?

वैदिक ज्योतिष शास्त्र के अनुसार राशि चक्र 360 अंश का होता है और इस चक्र में 12 राशियाँ पाई जाती है जिसमें से एक राशि 30 अंश की होती है। जिसमें सबकी अपनी-अपने अलग-अलग विशेषताएं होती है।

  1. मेष राशि: राशि चक्र में मेष राशि का स्थान सबसे प्रथम का होता है। इसलिए मेष राशि को सबसे सक्रिय राशि और साथ ही मंगल ग्रह को मेष राशि का स्वामि भी कहां जाता है। जिस भी जातक की मेष राशि होती है। उसके अंदर चीज को सीखने की उत्सुकता होती है। वह किसी चीज को बहुत जल्दी सीख लेते हैं। इन सभी चीजों के अलावा उनके अंदर किसी भी काम को करने का जुनून होता है और वह थोड़े गुस्से के स्वभाव के होते हैं।
  2. वृषभ राशि: शुक्र ग्रह वृषभ राशि का स्वामी होता है। जिस व्यक्ति का जन्म वृषभ राशि में होता है। वह व्यक्ति मानसिक और व्यावहारिक रूप से काफी स्थिर प्रकार के होते हैं।
  3. मिथुन राशि: मिथुन राशिका स्वभाव द्विस्वभाव होता है। ज्योतिष शास्त्र के अनुसार बुध ग्रह को मिथुन राशि का स्वामी कहा गया है। किस राशि में जन्म लेने वाला कोई भी जातक। बहुत अधिक बातें करने वाला होता है।
  4. कर्क राशि: कर्क राशि को जलिय राशि कहा जाता है। कर्क राशि वाले जातकों का स्वभाव काफी दयालु प्रवृत्ति का होता है।
  5. सिंह राशि: जिस भी जातक का जन्म सिंह राशि के होता हैं। वे अपना जीवन राजा की भाती जीते हैं।
  6. कन्या राशि: कन्या राशि को पृथ्वी तत्व के राशि की संज्ञा दी जाती हैं। कन्या राशि के जातक का स्वभाव काफी व्यवहारिक होता है। ऐसे लोग कार्य को बोलने से ज्यादा करने में विश्वास रखते है।
  7. तुला राशि: तुला राशि को वायु तत्त्व की संज्ञा दी गई है। तुला राशि का स्वामी शुक्र ग्रह है। इस राशि के जातक काफी संतुलित होते हैं।
  8. वृश्चिक राशि: वृश्चिक को जलीय राशि के श्रेणी मे रखा गया है। मंगल ग्रह वृश्चिक राशि के स्वामी हैं। वृश्चिक राशि वाले जातक अनुभवी होते हैं।
  9. धनु राशि: धनु राशि को अग्नि तत्त्व की श्रेणी में रखा गया है। धनु राशि के स्वामि बृहस्पति ग्रह है। इस राशि के जातक बहुत ज्ञानी होते हैं। और सदेव ज्ञान सीखने के लिए उत्तसहित रहते हैं।
  10. मकर राशि: मकर राशि को पृथ्वी तत्व की राशि कहां जाता है। मकर राशि वाले व्यक्ति आलसी होते हैं।
  11. कुंभ राशि: कुंभ राशि को वायु तत्त्व के श्रेणी में रखा गया है। कुंभ राशि वाले व्यक्ति का स्वभाव पारिवारिक, सामाजिक, और इसके साथ साथ बुद्धिमान भी होते हैं।
  12. मीन राशि: मीन राशि को जल्दी राशि के श्रेणी में रखा गया है। इस राशि के जातक का व्यवहार काफी प्रेम भरा होता है। यह सदैव दूसरों को समर्थन करते हैं और दूसरों की भावनाओं का कदर करते हैं। यह स्वभाव से भावुक होते हैं और साथ ही अंतर्ज्ञानी भी होते हैं।

सूर्य राशि क्या होती है ?

जब कोई व्यक्ति आपसे आपके राशि के बारे में पूछते है। तो वो आपके सुर्य राशि चिन्ह के बारे में जानना चाहते है। इसलिए सूर्य राशि चिन्ह को समझना बहुत जरूरी होता है। सुर्य चिन्ह को , सूर्य राशि चिन्ह या तारा चिन्ह भी कहां जाता है। ये आपको ये बताता है कि आपके जन्म के समय सूर्य किस राशि में था। और उसी आधार पर आपकी राशि तय की जाती है।

जन्म तारीख से राशि नाम कैसे निकाले

ये आपके सकारात्मक और नकारात्मक दोनों ही चरित्र की विशेषताओं को बताता है। साथ ही इस राशि के साहायता से हम अपने भविष्य के बारे में भी जानकारी प्राप्त कर सकते है। हालांकि कई सारे ज्योतिष भविष्य फल के लिए चंद्र राशि पर अधिक भरोसा करते हैं। लेकिन आज के समय में सूर्य राशि के आधार पर भी ज्योतिष चलन बहुत आगे बढ़ रहा है।

सूर्य राशि का महत्त्व

सूर्य राशि एक ऐसा ग्रह है। जो किसी भी जातक को ताकत देता है। आत्मविश्वास देता है। साथ ही आत्म बल भी देता है। ज्योतिष शास्त्र के अनुसार सूर्य धन और भाग्य का कारक होता है।

जन्म तिथि के अनुसार कौन सी राशि है ?

अगर आपको अपने जन्म का समय या दिन कुछ भी ज्ञात नहीं है। लेकिन फिर भी आप केवल अपने जन्मतिथि के आधार पर अपनी सूर्य राशि चिन्ह को जानना चाहते है। तो ये है आपकी सूर्य राशि का चिन्ह :

राशियां :जन्म तिथि :
मेष राशि21 मार्च से 20 अप्रैल
वृषभ राशि21 अप्रैल से 21 मई
मिथुन राशि22 मई से 21 जून
कर्क राशि22 जून से 22 जुलाई
सिंह राशि23 जुलाई से 21 अगस्त
कन्या राशि22 अगस्त से 23 सितंबर
तुला राशि24 सितंबर से 23 अक्टूबर
वृश्चिक राशि24 अक्टूबर से 22 नवंबर
धनु राशि23 नवंबर से 22 दिसंबर
मकर राशि23 दिसंबर से 20 जनवरी
कुंभ राशि21 जनवरी से 19 फरवरी
मीन राशि20 फरवरी से 20 मार्च
Our Telegram Channel :Click Here To Join

चन्द्र राशि क्या होता है ?

किसी भी जातक के जन्म के समय चंद्रमा के स्थिति का प्रतिनिधित्व किसी जातक के चन्द्र राशि द्वारा ही किया जाता है। सुर्य की तुलना में चंद्रमा बहुत तेजी से चलता है। बल्कि चंद्रमा सभी ग्रहों से सबसे अधिक गति से चलता हैं। ये लगभग सवा दो दिनों में ही एक राशि से दुसरे राशियों में प्रवेश करते रहता है। अगर हम बात करे की चंद्र राशि क्या होता है। तो मै आपको बता दू की हमारे जन्म कुंडली में चन्द्रमा जिस राशि में प्रवेश किए रहता है। उसी राशि को हमरा चन्द्र राशि कहा जाता हैं।

चन्द्र राशि को ज्योतिष शास्त्र में नाम राशि के नाम से भी जाना जाता है। ज्योतिष शास्त्र के अनुसार चन्द्र ग्रह को सभी ग्रहों से अधिक महत्व दिया जाता है। ज्योतिष शास्त्र के अनुसार चन्द्र राशि की सहायता से हम किसी जातक के व्यव्हार, उसके वेक्तित्व और उसके सेहत और उसके जीवन के और भी महत्वपूर्ण पहलुओं के बारे में जान सकते है। चन्द्र राशि के सहायता से हम अपने भविष्य कि परिस्थियों के बारे मे जान सकते है। चन्द्र राशि हमारे सामाजिक जीवन के बारे में भी बहुत कुछ बताती है।

चन्द्र राशि के महत्त्व

  • चन्द्र राशि किसी जातक के बाहरी रूप के साथ साथ वो किसी जातक के चरित्र और उसके व्यक्तित्व को भी दर्शाता है।
  • चन्द्र राशि के माध्यम से किसी जातक के स्वास्थ का पता चलता है।
  • चन्द्र राशि से हम भाग्य के बारे में जान सकते है।
  • चन्द्र राशि से ही जातक के रिश्ते नाते के बारे में जाना जाता है।
  • चन्द्र राशि से ही किसी जातक के भाग्य और दुर्भाग्य का पता चलता है।

कैसे जाने अपनी चन्द्र राशि ?

जन्म तारीख से राशि नाम कैसे निकाले

सूर्य राशि की तुलना में चन्द्र राशि अधिक गति से चलता है। जहां सूर्य को सभी 12 राशियों में प्रवेश करने में 1 वर्ष का समय लगता है। वही चन्द्र राशि सवा दो दिनों में ही एक राशि से दुसरे राशि में प्रवेश कर जाता है। और पुरे 12 राशियों में चन्द्र को प्रवेश करने में ज्यादा से ज्यादा 1 महीने का समय लगता है। इसलिए सूर्य राशि का पता केवल जन्मतिथि के आधार पर किया जा सकता है। लेकिन चंद्र राशि का पता, केवल जन्म तिथि के आधार पर नहीं किया जा सकता। इसके लिए जन्म स्थान, जन्म समय, जैसे कुछ महत्वपूर्ण तथ्यों का ज्ञान होना बहुत आवश्यक है।

सूर्य राशि और चन्द्र राशि में क्या अंतर है ?

  1. सूर्य राशि किसी जातक के बाहरी व्यवाहार का प्रतिनिधित्व करता है। और चन्द्र राशि हमारे आंतरिक व्यवाहार का प्रतिनिधित्व करता है।
  2. सूर्य राशि किसी जातक के मौलिक विचार का नियंत्रित करने का कार्य करता है। और चन्द्र राशि हमारी भावनाओं को नियंत्रित करने का काम करती है।
  3. सूर्य के चिन्ह द्वारा आप हर समय कौन है ये दर्शाता है। वही चंद्रमा का चिन्ह आपके निजीब पसंद को बताता है।
  4. सूर्य आपके उद्देश्य का प्रतीक है और चंद्र आपके आराम के छेत्र का उत्तरदाई हैं।
  5. सूर्य हमारे अहंकार और हमारे इच्छा का प्रतीक है। और चंद्रमा हमारे भावनाओं और हमारे आस पास के वातावरण को दर्शाता है।

निष्कर्ष

सभी लोगों को अपनी राशि के बारे में जानने की उत्सुकता होती है। लेकिन उन्हें अपने जन्म के संबंध पूर्ण रूप से ज्ञान नहीं होता। इसलिए वे चाहते हैं। कि वह केवल जन्म तारीख से अपनी राशि ज्ञात कर सके। इसलिए उनके मन में यह प्रश्न होता है। कि जन्म तारीख से राशि नाम कैसे निकले? तो मैं अपने इस आर्टिकल में जन्म तारीख के हिसाब से रशियां बताई है। और राशि से संबंधित बहुत सारी चीजें आपको बताई है जो की एक व्यक्ति के लिए बहुत आवश्यक है। उम्मीद करते हैं हमारा यह आर्टिकल आप सभी लोगों के लिए मददगार साबित हुआ होगा। धन्यवाद।

डिस्क्लेमर – इस लेख में वर्णित जानकारी और सामग्री के सटीकता के विश्वास की गारंटी हमारी या हमारी टीम की नही हैं। हमने आपको ये सारी जानकारियां विभिन्न मध्यम जैसे ज्योतिष, पंडित, पंचांग, विभिन्न धर्म ग्रंथ से इकट्ठी कर के आप तक पहुंचाई है। हमारे उद्देश्य बस सूचनाओं/जानकारियों को आपतक पहुंचाना है। इसके अलावें इसके उपयोग की जिम्मेदारी हमारी नही होगी। इसके उपयोग की जिम्मेदारी केवल उपयोग करने वाले की होगी।

FAQs:

Q. कौन से अक्षर का नाम शुभ होता है?

A(ए) अक्षर से शुरू होने वाले नाम बहुत शुभ होते हैं।

Q. S नाम की लड़कियां कैसे होती है?

जिस भी लड़की के नाम की शुरुआत एस (S) अक्षर से होती है वह काफी बुद्धिमान होती है।

Q. सूर्य की मित्र राशि कौन सी है?

सूर्य की मित्र राशि मीन राशि है।

Q. कौन सी राशि की लड़कियां सुंदर होती है?

कन्या राशि की लड़कियां बहुत सुंदर होती है।

Q. लड़कियों के भाग्यशाली नाम क्या है?

लड़कियों के लिए भाग्यशाली नाम की शुरुआत S (एस) अक्षर से होती है। अर्थात जिस भी लड़की के नाम S (एस) अक्षर से शुरू होती है। वह लड़कियां बहुत भाग्यशाली होती है।

इस आर्टिकल के माध्यम से हमने आपको बताया केवल अपनी जन्म तारीख से राशि नाम कैसे निकले? और राशि से संबंधित सभी जानकारी देने का प्रयास किया है। आशा करती हूं, कि मेरा यह आर्टिकल आप सभी के लिए उपयोगी साबित हुआ होगा। ऐसे ही और अन्य सभी जानकारी के लिए हमारे वेबसाइट Suchna Kendra से जुड़े रहे।

Share This Post:

Leave a Comment